शुक्रवार, 19 मार्च 2010

ग्वालियर




ग्वालियर से कुछ दूर 'मोहिनी सागर बाँध'. जैसा नाम, वैसी जगह!

कैमरे के 'सेल्फ' या 'ऑटो' मोड से खींची गयी इस तस्वीर की भी स्व. दिलीप साव ने तारीफ की थी. मुझे कुछ खासियत नजर नहीं आयी, तब उन्होंने ध्यान दिलाया कि सूर्य की ढलती रोशनी का इसमें सही इस्तेमाल हुआ है.

तानसेन के गुरु मोहम्मद गौस का मकबरा.
यह शानदार फोटो अशोक ने खींचा था.

तेज बरसाती हवाओं के बीच यह फोटो मेरे किस दोस्त ने खींचा था- याद नहीं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें